कृषि

आमदनी बढ़ाने के लिए महंगी फसलों की खेती करें किसान, कृषि मंत्री ने दिया आईडिया

केंद्रीय बागवानी संस्थान, दीमापुर में आयोजित कृषि प्रदर्शनी का अवलोकन करते कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर.

Image Credit source: TV9 Digital

कृषि मंत्री ने बताया किसानों की आय बढ़ाने का तरीका, कहा- महंगी फसलों की खेती करें किसान नागालैंड दौरे पर गए केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि किसानों के लाभ के लिए कृषि को उन्नत खेती में बदलना आवश्यक. किसानों तक नई टेक्नोलॉजी पहुंचाएं अधिकारी. कहा कि दीमापुर से कहीं और शिफ्ट नहीं होगा केंद्रीय बागवानी संस्थान.

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा है कि कृषि क्षेत्र (Agriculture Sector) में काम करने वाले भाइयों-बहनों को अपनी आमदनी बढ़ाने के लिए महंगी फसलों की ओर जाना चाहिए. यही नहीं उन्हें टेक्नोलॉजी से भी जुड़ना होगा. उत्पादकता बढ़ाने पर जोर देना होगा. कृषि क्षेत्र में काम करने वाले संस्थानों की भी जिम्मेदारी है कि वो किसानों तक नई टेक्नोलॉजी पहुंचाएं. ताकि वैज्ञानिकों के रिसर्च का लाभ आम किसानों को मिले. सरकार की फंडिंग भी उन तक पहुंचनी चाहिए. इससे किसानों की आय (Farmers Income) में वृद्धि होगी. यह बात उन्होंने नागालैंड में केंद्रीय बागवानी संस्थान में आयोजित किसान कार्यशाला एवं प्रदर्शनी की शुरुआत करने के बाद कही. तोमर ने कहा कि केंद्र सरकार और राज्य सरकार के साथ मिलकर नागालैंड के विकास में जुटी हुई है.

केंद्रीय बागवानी संस्थान, दीमापुर में आयोजित एक कार्यक्रम में तोमर ने कहा कि पूर्वोत्तर क्षेत्र के किसान बागवानी के विकास में एक नई क्रांति को जन्म देंगे. यह क्षेत्र लंबे समय से उपेक्षा का शिकार रहा है. दूर होने से यहां योजनाओं का लाभ मिलना भी कठिन था, लेकिन पीएम नरेंद्र मोदी ने इस क्षेत्र के विकास पर ध्यान दिया. तोमर ने आश्वस्त किया कि केंद्रीय बागवानी संस्थान यहीं रहेगा, कहीं शिफ्ट नहीं होगा, इसके लिए फंड की कमी नहीं आने दी जाएगी और इसके विकास में केंद्र सरकार कोई कमी नहीं छोड़ेगी.

नागालैंड में बागवानी की काफी संभावना

तोमर ने कहा कि उत्तर-पूर्व क्षेत्र में विशाल भौगोलिक विविधताओं के साथ 6 कृषि जलवायु क्षेत्रों की उपस्थिति है. इस वजह से अन्य राज्यों की तुलना में कई बागवानी फसलों (Horticulture Crops) को उगाने के लिए यहां काफी गुंजाइश है. उनसे किसानों को लाभ मिलने की बड़ी संभावनाएं हैं. नागालैंड के कृषि उत्पादों के निर्यात के लिए भी, इसके दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों से निकटता के कारण काफी संभावनाएं हैं.

जरूरी है कि कृषि उत्पाद वैश्विक मानकों के अनुरूप गुणवत्तापूर्ण हों व उत्पादकता बढ़े. इससे किसानों को अच्छा दाम मिलेगा व उनकी माली हालत सुधरेगी. खेती के क्षेत्र का देश की जीडीपी (GDP) में भी अधिक योगदान होगा. तोमर ने कहा कि किसानों को कम लागत में नई टेक्नोलॉजी पहुंचाने का प्रयत्न सभी मिलकर कर रहे हैं, इस दिशा में संस्थान व राज्य सरकार के प्रयासों की उन्होंने सराहना की.

किसानों तक पहुंचे योजनाओं का लाभ

केंद्रीय कृषि मंत्री ने कहा कि आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चाहते हैं कि समग्र व संतुलित विकास हो. सरकार की योजनाओं का लाभ किसानों तक पहुंचे, जिससे उनके जीवन स्तर में बदलाव आए. इसके लिए केंद्र सरकार समर्पित है व आगे भी रहेगी. पूर्वोत्तर के विकास के लिए केंद्र सरकार राज्यों के साथ कदम से कदम व कंधे से कंधा मिलाकर चलती रहेगी. उन्होंने कहा कि पूर्वोत्तर सहित देश में किसानों के लाभ के लिए कृषि को उन्नत खेती में बदलना जरूरी है.

ये भी पढ़ें



कार्यक्रम में नागालैंड (Nagaland) के कृषि मंत्री जी. काइटो ने भी संबोधित किया और राज्य में कृषि का विकास बताया. इस मौके पर केंद्रीय बागवानी आयुक्त डॉ. प्रभात कुमार, केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय इम्फाल के कुलपति डॉ. अनुपम मिश्रा, संस्थान के निदेशक व केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय के अतिरिक्त आयुक्त (बागवानी) डॉ. एन.के. पटले सहित कई लोग मौजूद रहे.

Source link

What's your reaction?

Excited
0
Happy
0
In Love
0
Not Sure
0
Silly
0

You may also like

More in:कृषि

Comments are closed.