स्वास्थ्य

Dhanbad: पेंशन जयघोष महासम्मेलन में रांची गए धनबाद के स्वास्थ्य कर्मचारी

संघ के अजय कुमार ने बताया कि पुरानी पेंशन योजना लागू करने को लेकर लगातार आंदोलन चल रहा है। इसी को लेकर धनबाद सहित पूरे राज्य में आज प्रदर्शन हो रहा है। स्वास्थ्य विभाग के सहित अन्य सरकारी कर्मचारियों के संगठन भी भाग ले रहे हैं।

जागरण संवाददाता, धनबाद: पुरानी पेंशन की मांग को लेकर झारखंड अराजपत्रित कर्मचारी संघ सहित राज्य के तमाम श्रमिक संगठनों का आज रांची में पेंशन जयघोष महासम्मेलन है। सम्मेलन में तमाम कर्मचारी संगठन अपना सहयोग कर रहे हैं। इसी को लेकर धनबाद के स्वास्थ्य कर्मचारियों का एक दल रविवार की सुबह रांची रवाना हुआ है। झारखंड राज्य चिकित्सा एवं जन कर्मचारी संघ के सदस्य रांची के हैं। संघ के अजय कुमार ने बताया कि पुरानी पेंशन योजना लागू करने को लेकर लगातार आंदोलन चल रहा है। इसी को लेकर धनबाद सहित पूरे राज्य में आज प्रदर्शन हो रहा है। स्वास्थ्य विभाग के सहित अन्य सरकारी कर्मचारियों के संगठन भी भाग ले रहे हैं।

नई पेंशन नीति कर्मचारियों को मंजूर नहीं

अजय ने बताया कि केंद्र सरकार की नई पेंशन नीति का कर्मचारी संगठन विरोध कर रहा है। कई बार धरना प्रदर्शन के बावजूद अभी तक इस पर कोई ठोस पहल सरकार ने नहीं लिया है। इसी को देखते हुए अब कर्मचारी महासम्मेलन का आयोजन कर रहे हैं। इस महासम्मेलन के बाद सरकार से आर-पार की लड़ाई कर्मचारी संगठन करेंगे। किसी भी शर्त पर अपने हक से खिलवाड़ नहीं होने दिया जाएगा। लगभग डेढ़ सौ प्रतिनिधि धनबाद से रांची गए हैं। यदि सरकार ने पहल नहीं किया तो पूरे राज्य में क्रमबद्ध तरीके से विरोध प्रदर्शन किया जाएगा। कर्मचारियों ने बताया कि इसके लिए पहले ही तैयार की जा चुकी है। अब किसी भी साथ पर कर्मचारी संगठन पीछे नहीं हटेंगे।

इन मांगों को लेकर हो रहा महा सम्मेलन

  • नई पेंशन नीति को अविलंब रोक लगाकर पुरानी पेंशन नीति बहाल करें
  • बिहार के तर्ज पर चतुर्थवर्गीय कर्मचारियों को तृतीय वर्गीय कर्मचारी में प्रोन्नति दी जाए
  • चतुर्थ वर्गीय कर्मचारियों को मोटरसाइकिल मुहैया कराई जाए
  • आउटसोर्सिंग और अनुबंध के आधार पर नौकरी बंद करके स्थाई निकाली जाए
  • सभी सरकारी कर्मचारियों को 50 लाख रुपए का दुर्घटना बीमा कराया जाए सहित अन्य 32 मांगे शामिल है

Edited By: Atul Singh

Source link

What's your reaction?

Excited
0
Happy
0
In Love
0
Not Sure
0
Silly
0

You may also like

Comments are closed.